कुछ पल जिन्दगी के अजीब होते हैं,
जाने कितने दोस्त हमें मिलते हैं!
सच्चा दोस्त कोई ना पहचान पाया,
जाने कितने मोड़ पीछे छोड आया!!

वक़्त अब कटता नहीं जाने क्यों,
हर वक़्त बेचैन क्यों रहता हूँ!
बच्चों सा मन ये मचलता है,
ना जाने क्यों उख्डा सा मन है!!

ना मुझे प्यार हुआ है,
ना मुझे कोई बिमारी हुई है!
फिर भी लोग क्यों ऐसे बरताव करते हैं,
बीजी हैं अभी करके टाल देते हैं!!

क्या इस जिन्दगी के कोई मायने नहीं रहे,
क्या हम इतने बीजी हैं हो गए?
मन मेरा दुःखी होता है,
जवाब सोचने पर भी क्यों नहीं मिलता है??

kuch pal zindagi ke ajeeb hote hain,
jaane kitne dost humein milte hain!
sachcha dost koi na pehchaan paya,
jaane kitne mod peeche chod aaya!!

waqt ab katta nahin jaane kyun,
har waqt bechain kyun rehta hun!
bachchon sa man ye machalta hai,
na jaane kyun ukhda sa man hai!!

na mujhe pyaar hua hai,
na mujhe koi bimari hui hai!
fir bhi log kyun aise bartao karte hain,
busy hain abhi karke taal dete hain!!

kya is zindagi ke koi mayne nahin rahe,
kya hum itne busy hain ho gaye?
man mera dukhi hota hai,
jawaab sochne par bhi kyun nahin milta hai??

1 thought on “कुछ पल जिन्दगी के…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>